fbpx
ATMS College of Education
Health

ये आसान सा प्राणायाम कोरोना महामारी से लड़ने में करेगा आपकी मदद, बस ऐसे अपनाएं

नई दिल्ली: कोरोना महामारी ने सभी को डरा कर रखा हुआ है, लेकिन मास्क लगाकर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर इससे बचा जा सकता है. साथ ही अगर आप ये प्राणायाम करेंगे आपका इम्यून सिस्टम बहतर होगा. बताया जाता है कि कोरोना वायरस सांस के जरिए इंसान के फेंफड़ों को प्रभावित करता है. इसलिए अगर आप मुंह और गले का ख्याल रखेंगे तो इससे लड़ा जा सकता है. और इसके लिए सबसे कारगर प्राणायाम है कपालभाति…

ये भी पढ़ें: हापुड़ जनपद में शनिवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक रहेगा कोरोना कर्फ्यू-जिलाधिकारी

एक्सपर्ट्स का कहना है कि कपालभाति क्रिया अगर विपरित करणी मुद्रा में की जाए तो लंग्स, गले और नाक को आसानी से साफ कर सकती है. इस आसन से ब्लड फ्लो डायरेक्ट ब्रेन तक जाता है और मस्तिष्क और फेफड़ों का शुद्धि होती है. इसके अलावा ये आसन आंखों और पेट के लिए भी अच्छा होता है. इससे फेफड़े मजबूत होते हैं.

किन्हें नहीं करना चाहिए ये आसन?
हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट के मरीजों को एक्सपर्ट्स की सलाह के बाद ही यह प्राणायाम करना चाहिए. इसके अलावा, कमर दर्द, स्लिप डिस्क और सर्वाइकल के मरीज यह आसन न करें.

ये भी पढ़ें: कोरोना टेस्ट व वैक्शीन ना लगवानें पर सरका री शिक्षकों व कर्मचारियों की रुकेगी सैलरी

कैसे करें कपालभाति?
सबसे पहले आराम से बैठ जाएं
अपनी कमर सीधी रखें और आंख बंद करें
अपनी हथेलियां घुटनों पर रखें
सांस को पूरी तरह बाहर छोड़ दें
अब नाक से सांस अंदर लें और तेजी से छोड़ दें.
अब नाभि को अपनी स्पाइन की ओर खींचें और पेट की पूरी ताकत लगाकर फेफड़ों से हवा बाहर निकाल दें.
एक राउंड में 20 बार ऐसा करें.
अपनी आंखों को बंद रखिए और शरीर में होने वाली हर प्रतिक्रिया पर ध्यान केंद्रित करिए.
इसके बाद, अगर आप चाहें तो, कपालभाति के 2 और राउंड कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: रविवार को चलेगी औघोगिक ईकाईयां, हापुड़ स्माल स्केल एसो. ने किया स्वागत, प्रतिबंध के साथ हो सकेगी शादियां

कब करना चाहिए प्राणायाम?
कपालभाति एक ऐसा प्राणायाम है, जिसे आपको सुबह-सुबह बिना कुछ खाए ही करना चाहिए. हालांकि, एक्सपर्ट्स कहते हैं कि आप इसे डिनर के दो घंटे बाद भी कर सकते हैं.

Source link

Menmoms Sajal Telecom JMS Group of Institutions
Show More

5 Comments

  1. Pingback: hihuay
  2. Pingback: steenslagfolie
  3. Pingback: collision repair

Leave a Reply

Back to top button

You cannot copy content of this page