fbpx
BreakingCrime NewsGhaziabadHapurNewsUttar Pradesh

धर्म पूछकर एक युवती को छोड़ा, दूसरी संग तीन दरिंदों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

धर्म पूछकर एक युवती को छोड़ा, दूसरी संग तीन दरिंदों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

गाजियाबाद

ट्रॉनिका सिटी थानाक्षेत्र में 30 नवंबर को युवती से सामूहिक दुष्कर्म के सभी पांचों आरोपित पुलिस ने सर्विलांस और सीसीटीवी फुटेज से दबोचे हैं।

पुलिस को 12 मोबाइल नंबरों की जांच में दो नंबरों की आपस में हुई बातचीत के आधार पर आरोपितों का सुराग लगा। इसके बाद पुलिस आरोपितों को पकड़ सकी।

डीसीपी ग्रामीण विवेक चंद ने सोमवार को पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता में बताया कि ट्रॉनिका सिटी थानाक्षेत्र के खानपुर गांव के जंगल में 30 नवंबर को दोस्त तथा उसके मित्र के साथ स्कूटी सीख रही युवती के साथ तीन युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म किया था।

जहां स्कूटी सीख रही थीं सहेलियां वहीं टहल रहे थे आरोपी

घटना शाम करीब सात बजे की है। खानपुर का रहने वाला 20 वर्षीय जुनैद पुत्र शकील, इमरान पुत्र नाजिर एवं चांद उर्फ तौसीफ पुत्र मम्मन वारदात वाले दिन जिस स्थान पर युवती स्कूटी सीख रही थी, वहीं टहल रहे थे।

आरोपितों ने दो युवती और उसके मित्र को देखा तो उनके साथ बातचीत शुरू की इसी बीच पीड़िता को खींचकर झाड़ियों में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया।

दूसरी सहेली को भी बनाने वाले थे शिकार इतने में…

पुलिस का कहना है कि दुष्कर्म के दौरान दो आरोपित युवती की मित्र और युवक को पकड़े हुए थे। इस बीच इमरान ने खानपुर के ही रहने वाले गोलू उर्फ हर्ष पुत्र मंगू को फोन कर मौके पर बुलाया। गोलू अपने साथ खानपुर के ही रहने वाले सुल्तान उर्फ काले पुत्र मकसूद को लेकर आया।

गोलू और सुल्तान ने आते ही पीड़िता की सहेली को झाड़ियों में खींचना शुरू किया इसी बीच एक कार उन्हें आते हुए दिखी तो आरोपित फरार हो गए।

पीड़िता ने एक ग्रामीण से मांगी मदद

पुलिस का कहना है कि घटना के बाद पीड़िता की सहेली मौके से भाग गई। इसके बाद पीड़िता किसी तरह खानपुर में एक घर पहुंची। पीड़िता ने ग्रामीण को अपने साथ लूट की घटना होना बताया। ग्रामीण बाइक पर पीड़िता को लेकर पुलिस चौकी पहुंचा।

एक फोन कॉल बनी केस खोलने में मददगार

घटना के समय मौके पर पहले जुनैद, इमरान और चांद मौजूद थे। इमरान ने गोलू को फोन कर जल्दी मौके पर आने के लिए कहा। दोनों के बीच हुई यही बातचीत पुलिस के लिए केस का पर्दाफाश करने में महत्वपूर्ण कड़ी साबित हुई।

लिस ने घटनास्थल के आसपास घटना के समय एक्टिव नंबर निकाले। उस समय पुलिस को 12 नंबर एक्टिव मिले। इनमें संदिग्ध नंबर तलाशे गए। गोलू और इमरान की आपस में हुई बातचीत से पुलिस को आरोपितों तक पहुंचने में मदद मिली।

इसके अलावा पुलिस जांच में पीड़िता ने बताया था कि एक आरोपित ने काले रंग की हुडी पहनी हुई थी। पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के रूट पर सीसीटीवी कैमरों को देखा। एक सीसीटीवी कैमरे में पुलिस को एक संदिग्ध काले रंग की हुडी में दिखा। वह युवक जुनैद था।

युवती की सहेली को धर्म पूछकर छोड़ा

पुलिस का कहना है कि एक आरोपित चांद ने युवती की सहेली से उसका धर्म पूछा था। इसके बाद उसने अपने दोस्तों से कहा कि इसे कुछ नहीं कहना है। युवती को चांद ने अपना परिचित बताया।

हालांकि दो अन्य आरोपित जैसे ही मौके पर आए उन्हें चांद कुछ बता नहीं पाया तो वह युवती को खींचकर अपने साथ ले जाने लगे इसी बीच एक कार की रोशनी दिखाई देने पर आरोपित तेजी से युवती को छोड़कर फरार हो गए।

Show More

Leave a Reply

Back to top button

You cannot copy content of this page